OyeHindi

OyeHindi

RSS Full Form In Hindi

RSS Full Form In Hindi RSS क्या है ? RSS क्यू बनाया गया है ? RSS की स्थापना किसने कि? RSS से कैसे जुड़ें ? RSS क्या काम करता है ? 

दोस्तों आपने कभी न कभी tv , mobile , या किसी भी व्यक्ति से rss जैसा शब्द जरूर सुन होगा । दोस्तों यह शब्द सुनने के बाद अपके दिमाग में ये जरूर आता होगा की आखिर ये rss है क्या ? क्यू लोग इसके बारे में बातें करते हैं? तो दोस्तों मैं आज इस ब्लॉग में आपको nrss से जुड़ी हर खबर देने वाला हूँ । 

तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं पूरी जानकारी के साथ । 

RSS क्या है ? 

दोस्तों rss एक ऐसा संघ है जो की हिन्दू धर्म के प्रति लोगों को जागरूक करता है । दोस्तों rss प्रारम्भिक प्रोत्साहन हिन्दू अनुशासन के माध्यम से चरित्र प्रशिक्षण प्रदान करता है और हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिए हिन्दू धर्म के लोगों को एकजुट करता है । 

rss जैसा बड़ा संघ राष्ट्र में एकता और युवाओं में देश के प्रति लगाव लाने में सक्षम है । rss खुद को एक सांस्कृतिक संगठन के रूप में प्रस्तुत करता है । rss द्वारा युवाओं में ताकत , वीरता और उत्साह बढ़ाया जाने का पूरा प्रयास किया जाता है  । और इतना ही नहीं बल्कि सभी जाती और वर्ग के लोगों में एकता लाने का कार्य भी किया जाता है। 

दोस्तों मैं आपको एक बात बता देना चाहता हु की rss दुनिया का सबसे बड़ा  स्वयंसेवी संघ है । जिसका उद्देश्य हिन्दू संस्कारों को बनाए रखना और आने वाली पीढ़ी में भी संस्कारों को जगाए रखना है । 

RSS की फूल फॉर्म क्या है ? 

RSS Full Form In Hindi

दोस्तों rss क्या है ये तो आप सब जान गए होंगे परंतु किसे कहते हैं ओर इसका पूरा नाम क्या है ये भी जानना बेहद जरूरी है । दोस्तों rss यानि :

R – RASHTRIYA 

S – SWAYAMSEVAK 

S – SANGH 

Rss का पूरा नाम “Rashtriya Swayamsevak Sangh” है और हम इसे हिन्दी में “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ” और “राष्ट्रीय सेवा संघ” भी कहते हैं । 

RSS की स्थापना ?

दोस्तों rss की स्थापना 27 september 1925 को विजयदशमी के दिन डॉ. केशव हेडगेवार द्वारा की गई थी । दोस्तों rss के ऊपर कई बार प्रतिबंध भी लगाया गया । दोस्तों ब्रिटिश शासन के दौरान और स्वतंत्रा के दौरान इसपर 3 बार प्रतिबंध लगाया गया था । 

उसमे से पहली बार जब 1948 में जब rss के पूर्व सदस्य नाथुराम गोडसे ने महात्मा गांधी का कत्ल किया था । उस समय पर rss को रोक दिया गया था । 

और उसके बाद जन 1975 में आपातकाल की घोसणा कर दी गई तब तत्कालीन जनसंघ पर भी संघ के साथ प्रतिबंध लगाया गया । 

और तीसरी बार 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंश के बाद भी rss पर रोक लगा दी गई थी । 

दोस्तों आपातकालीन हटने के बाद केंद्र में मोरारजी देसाई जी के प्रधानमंत्रित्व में rss को धीरे ढेरे बढ़ावा दिया गया और फिर इसकी परिणति भाजपा जेसे राजनैतिक दल के रूप में हुई जिसे की संघ की राजनैतिक साखा के रूप में देखा जाता है । 

RSS के कार्य ?

दोस्तों rss केवल एक संघ ही नहीं बल्कि यह एक ऐसा संघ है जो की अपने अच्छे कामों के लिए प्रसिद्ध है जेसे की:

1. सामाजिक सेवा और सुधार । 

2. देशभक्ति की ज्योत जगाए रखना । 

3. जातिवाद को खतम करना । 

4. युवाओं में जोश को जगाए रखना । 

5. सभी भारतवासियों को एकजुट करना । 

निष्कर्ष :

दोस्तों आज के इस ब्लॉग से निष्कर्ष यही निकलता है की rss एक विश्व का सबसे बड़ा संघ है जो की सामाजिक सेवा के लिए जाना जाता है । इतना ही नहीं बल्कि rss द्वारा दिया गया योगदान भी याद रखने के काबिल है ।  आज के इस समय में लोगों को एकजुट करके रखना और समजसेव के लिए प्रेरित करना बहोत बड़ी बात है । 

आज के समय की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी को अपने देश की परंपरा और अपने संस्कारों को बनाए रखने के लिए उत्तेजित करना भी कोई छोटा काम नहीं है । 

आज आपने क्या सीखा ?

1. RSS क्या है ? 

2. RSS की फूल फॉर्म क्या है ? 

3. RSS की स्थापना ?

4. RSS के कार्य ?

AUR JAANIYE ;

Leave a Comment